हदीसे हफ़्ता

الامام السجاد علیه السلام:

کانَ [رسولُ الله] إذا أوَى إلىَ مَنْزِلِهِ، جَزَّءَ دُخُولَهُ ثَلاثَةَأجْزَاءٍ: جُزْءاً لِلَّهِ، وَجُزْءاً لِأهْلِهِ، وَجُزْءاً لِنَفْسِهِ.

مکارم الأخلاق، ج 1، ص 44


हज़रत इमाम ज़ैनुल आबेदीन अलैहिस्सलाम फ़रमाते हैं


हज़रत रसूले अकरम (सल्ललाहो अलैहे वा आलेही वसल्लम) ने घर में अपने समय को तीन भागों में बाँट रखा था: एक हिस्सा खुदा के लिए, एक हिस्सा परिवार के लिए और एक हिस्सा खुद के लिए ।




इस हिस्से में सभी शिया समाचार, शिया टीवी आदि मौजूद हैं।

अधिक

धार्मिक पुस्तकें, सॉफ्टवेयर, कैसेट और सीडी स्थलों और केन्द्र।

अधिक

यहाँ कुरान से इस्तेख़ारा देखने के तरीक़े बयान हुए हैं।

अधिक

मुक़ामाते मुक़द्दसा की आनलाइन ज़ियारत

अधिक